Click to Download this video!

पत्नी की कमी का एहसास

Patni ki kami ka ehsas:

antarvasna, hindi sex stories

मेरा नाम कुंवर है मैं जयपुर का रहने वाला हूं, मेरी उम्र 35 वर्ष है। मेरी शादी को 7 साल हो चुके हैं और मैं अपनी शादीशुदा जीवन से खुश था। एक दिन मैं अपने पड़ोस के ही दुकान में गया तो वहां पर सब लोग बात कर रहे थे। मैंने उनसे पूछा कि आज दुकान में भीड़ क्यों है, दुकानदार मुझे कहने लगा कि पड़ोस की ही संजना भाभी किसी व्यक्ति के साथ भाग गई है और उनके पति बहुत ही ज्यादा परेशान हैं, उन्होंने अपने बच्चों को भी यही छोड़ दिया और उनके घर पर पुलिस आई हुई है इसलिए वह बहुत ज्यादा दुखी हैं। मैंने उनसे कहा कि संजना भाभी तो बहुत ही शांत स्वभाव की थी, उनकी तो सब लोग बड़ी तारीफ करते थे लेकिन ऐसा कैसे हो गया। हमारे मोहल्ले का दुकानदार मुझे कहने लगा, अरे भाई साहब आजकल किसी का भी भरोसा नहीं है, उनके पति भी उन पर आंख बंद कर के भरोसा करते थे इसीलिए उनके साथ ऐसा घटित हुआ और वह बहुत ज्यादा परेशान है।

मैंने अपने मोहल्ले के दुकानदार से पूछा कि वह भी तो जयपुर की ही रहने वाली हैं, वह मुझसे कहने लगा कि उनके माता-पिता भी भाई साहब के घर पर आए हैं और पूछ रहे हैं कि क्या तुम दोनों के बीच में कोई झगड़ा था। मैंने दुकानदार से पूछा तुम्हें यह सब बात कैसे पता चली, वह मुझे कहने लगा कि कई बार भाभी मेरी दुकान से ही रिचार्ज करवाती थी और घंटो तक फोन पर बात करती थी इसलिए मुझे उन पर पहले से ही शक था लेकिन मैं उनके पति को यह बात नहीं कह सकता था इसी वजह से मैंने उनसे कुछ भी नहीं कहा और अब आपके सामने ही सारी बात है। संजना भाभी भाग गई हैं, जिस वजह से उनके घर पर पुलिस भी आई हुई हैं। मैंने दुकान से अपना सामान खरीदा और मैं अपने घर लौट आया, जब मैं घर लौट आया तो मुझे भी अपनी पत्नी पर शक होने लगा,  मुझे लगा कि मैं भी अपनी पत्नी पर कुछ ज्यादा ही भरोसा करता हूं यदि उसने भी कभी इस प्रकार मेरे साथ किया तो मैं भी कहीं का नहीं रहूंगा और मेरी भी मोहल्ले में पूरी बदनामी हो जाएगी इसीलिए मैं भी अब अपनी पत्नी अंजलि पर शक करने लगा। उस दिन के बाद से मेरे दिमाग में यही बात घूमती रही।

संजना भाभी भी तो बहुत अच्छी थी और हमारे पूरे ही मोहल्ले में उनकी सब लोग बहुत तारीफ करते थे लेकिन ना जाने उन्होंने ऐसा क्यों किया। कुछ दिनों बाद यह बात मेरे माता-पिता को भी पता चल गई और वह लोग भी कहने लगे कि आज कल का तो जमाना ही खराब है, किसी पर भी भरोसा नहीं किया जा सकता। संजना को हम लोग पहचानते थे और हमें कभी भी नहीं लगा कि वह घर से भाग जाएगी, सब लोग उसकी बड़ी तारीफ करते थे। मेरी मां ने जब मुझसे यह बात कही तो मेंरे दिमाग में यह बात बैठ गई थी और मैं अपनी पत्नी अंजलि पर बहुत शक करने लगा,  बिना बात के ही उस पर मैं बहुत शक करने लगा इसी वजह से वह मुझसे हमेशा ही झगड़ा कर लेती और कहती हैं कि तुम बिना मतलब के मुझ पर शक करते रहते हो।  मैं अब अंजली का फोन भी चेक कर लेता था और जब भी मैं उसके फोन में किसी भी अननोन नंबर से मैसेज देखता हूं तो मैं उसे पूछ लिया करता कि यह किसका नंबर है, वह मुझे कहती कि तुम्हारे दिमाग में सिर्फ शक ही भरा पड़ा है इसलिए मुझे तुम्हारे साथ नहीं रहना। मेरे और अंजली के बीच में बहुत झगड़े होने लगे इसी वजह से वह एक दिन घर छोड़कर अपने मायके चली गई। जब वह अपने घर गई तो मैंने उसे फोन किया और कहा कि क्या तुम अब कभी भी वापस नहीं आने वाली हो, वह कहने लगी कि जब तक तुम अपनी आदतों को नहीं बदलोंगे तब तक मैं तुम्हारे साथ बिल्कुल भी नहीं रहने वाली। मैंने अंजलि से कहा कि मैंने तो कुछ भी ऐसा नहीं किया, वह मुझे कहने लगी कि तुम मुझ पर इतना ज्यादा शक करते हो कि मुझे तुम्हारे साथ रहना भी अब अच्छा नहीं लगता। वह मेरे बच्चे को भी अपने साथ ले गई थी, मैंने उसे कई बार समझाया और कहा कि मैं तुम पर शक नहीं कर रहा था लेकिन अब वह मुझसे बहुत ज्यादा गुस्सा थी इसलिए वह मेरे पास बिल्कुल भी नहीं आना चाहती। मैं अब अकेला हो गया। उसने एक दिन अपने पिताजी को हमारे घर पर भेज दिया और अपने पिताजी से कहकर भेजा कि आज के बाद कभी भी मेरा और तुम्हारे घर वालों का कोई भी संबंध नहीं है।

मैंने उसे फोन किया और कहा कि क्या तुम अब मेरे साथ नहीं रहना चाहती, उसने बड़ी मुश्किल से तो मेरा फोन उठाया और कई बार कॉल करने के बाद जब उसने मेरा फोन उठाया तो कहने लगी कि मैं अब तुम्हारे साथ बिल्कुल भी नहीं रहना चाहती हूं, ना ही मुझे तुम्हारे साथ रहना है। मैं अंजली से कहने लगा की मेरे दिमाग में तो संजना भाभी का ख्याल था और इसी वजह से मैंने तुम पर शक किया। वह कहने लगी कि हर कोई महिला एक जैसी नहीं होती, तुम्हें मुझ पर भरोसा करना चाहिए था। मैंने अंजलि से कहा ठीक है तुम मुझसे एक बार मिल लो और मिलकर हम लोग बात कर लेते हैं। जब मैंने अंजलि को अपने पास बुलाया तो वह घर पर आ गई और उसने मेरे माता पिता से बिल्कुल भी बात नहीं की। मैंने अंजलि से कहा कि क्या तुम मुझसे गुस्सा हो वह कहने लगी हां मैं तुमसे बहुत ज्यादा गुस्सा हू। मैंने अंजलि को कसकर पकड़ लिया वह मुझसे अपने आप को छुड़ाने लगी लगी। मैंने उसे बिल्कुल भी नहीं छोड़ा और कस कर पकडे रखा। वह मुझे कहने लगी कि तुम मुझे जल्दी से छोड़ दो मुझे बहुत ज्यादा तकलीफ हो रही है। मैंने उसे बिस्तर पर पटक दिया और उसके साथ में जबरदस्ती करने लगा वह कहने लगी मुझे तुम्हारे साथ कोई लेना देना नही है इसलिए मैं तुमसे बिल्कुल भी बात नहीं करना चाहती लेकिन जैसे ही मैंने उसके होठों को किस किया तो वह थोड़ा बहुत मेरे काबू में आ गई। मैं उसके स्तनों को दबाने लगा वह कहने लगी कि तुम मेरे साथ जबरदस्ती मत करो लेकिन मैंने उसकी बात नही मानी मैंने उसकी साड़ी को ऊपर किया और जल्दी से अपने लंड को उसकी चूत के अंदर डाल दिया

। जैसे ही मेरा लंड उसकी चूत में घुसा तो वह चिल्लाने लगी। मैंने उसे कसकर पकड़ा हुआ था और बड़ी तेज गति से झटके दे रहा था। काफी देर तक मैंने ऐसे ही किया लेकिन मैं ज्यादा समय तक उसे चोद नहीं पाया और जैसे ही मेरा वीर्य अंजलि की योनि में गिरा तो उसे थोड़ा राहत मिली। उसके बाद मेरे उसे उल्टा लेटा दिया मैंने अपने लंड पर सरसों का तेल लगा लिया और मेरा पूरा लंड चिकना हो चुका था। मैंने जैसे ही अंजलि की गांड में अपना लंड डाला तो वह चिल्लाने लगी और कहने लगी तुम यह क्या कर रहे हो। मैंने उसकी गांड को कसकर पकड़ लिया और बड़ी तेज गति से धक्के देने लगा वह भी पूरे मूड मे आने लगी। अंजलि कहने लगी मुझे बहुत दर्द हो रहा है मैंने उसकी बड़ी बड़ी चूतडो को पकड़ा हुआ था और बड़ी तेजी से झटके मार रहा था। काफी देर तक मैंने ऐसे ही उसे झटके मारे उसकी गांड का छेद भी पूरा बड़ा हो चुका था। वह कहने लगी कि तुमने मेरे गांड के छेद को बड़ा कर दिया है मुझे बहुत ज्यादा दर्द हो रहा है। मैंने अंजलि को उठाते हुए घोड़ी बना दिया और अपने लंड को अंजली की गांड में डाल दिया। मैंने उसे इतनी तेज गती से झटके मारे की मेरा लंड पूरा छिल चुका था अंजलि की गांड भी बुरी तरीके से छिल चुकी थी। उसे बहुत अच्छा लग रहा था जब मैं उसे झटके दे रहा था। अंजलि की टाइट गांड को  ज्यादा देर तक मैं नही झेल पाया जैसे ही मेरा वीर्य गिरा तो वह मुझे कहने लगी तुमने आज मेरी गांड मार कर मुझे मजे दे दिए लेकिन मैं तुम्हारे साथ नहीं रह सकती। वह अलग रहती है लेकिन जब भी मेरा मन होता है तो मैं अंजली की गांड जरूर मारता हूं। मुझे उसकी गांड मारने में मजा आता है और वह भी हमेशा ही मुझसे अपनी गांड मरवाती है। हम दोनों साथ में नहीं है और वह अलग रहती है परंतु उसे भी कभी कभार मेरी जरूरत पड़ जाती है तो वह मुझे अपने पास बुलाती है और मैं भी उसके पास उड़ा हुआ चला जाता हूं। मुझे भी अंजलि की गांड मारने में मजा आता है।


Comments are closed.


error:

Online porn video at mobile phone


teacher se chudai ki kahanihindi bhasha sexhindi chachi chudai storykahani bur kibhai ne behan ko chodabhabhi ki chut combhabhi ki chudai ki devar nebhai behan ki chodaisex stories in hindi onlyland and chut sexromantic chudai kahanihorror sex story in hindidesi chudai kahanisex stories desi chudaidost ki beti ko chodabahan ki chudai kahani hindichoot main lund photodesi sex chootbete se chudai ki storykahani hindi saxyhindi sexye storymakan malkin ki chudai ki kahanihindi sexy story and photochut kahani comdesi kahani chudaichut bur ki kahaniindian sadhu sexbehan bhai ki sex storyland chut ki hindi storychut ka chedmaa beta chudai kahani hindibhabi ko choda hindi sexy storykuwari dulhan hindi bfbhabhi ki kahani with photodewar bhabhi ka sexnew hot hindi sexy storykavita bhabhi ki chudaisuhagrat sex kahanididi chudiwww chodanmadmast kahaniyamaa ko maa banayamadam ki chootpatni ki chudai hindibhai behan ki chudai ki kahani in hindikamukta com storychudai chachi ki kahaniladki ki gand kaise mareantarvasna bhai behan chudaiantarvasna story with photomeri kunwari chut ki chudaichodan kathamari auntytight choothindi dex storiall hindi sexy storychoot desisuhagrat me chudai ki kahanijawan ladki sexmeri suhagraatbeti ki chudai train mesaxy babiantaravasna commaa bete ki chudai picsexx chutneha bhabhi ki chudaimarati sax storirandi banayahindi sex story new latestsex aunty hotbara saal ki ladki ki chudaidada boudi chodadevar bhabhi ke sath sexbiwi ki chudai storydhili chuthindi chut land ki kahaniyameri pahli chudaigand marne ka tarikabhabhi gand chudaiteacher ki beti ki chudaibete ne maa ko choda hindi sex story